E mc2 full form Explained in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

E mc2 full form Explained in HindiE mc2 full form Explained in Hindi (E=Mc^2 Theory Of Relativity Explained in Hindi part 1 (E=Mc2 सापेक्षता का सिद्धांत भाग 1)

Namastey Friend’s, हम सभी Professor Albert Einstein को जानते ही होंगे और आप सब ने उन्हें एक Famous फोर्मुले को भी बहुत बार Books में देखा होगा। E=Mc^2 मतलब Theory Of Relativity… इस सिद्धांत को Hindi में सापेक्षता का सिद्धांत कहते हैं इसे समझने के लिए हमें पहले कुछ और चीजें समझने की जरुरत है वो मैं आपको पहले बताना चाहता हूँ। E mc2 full form Explained in Hindi

एक Astronomer था जिसका नाम Ptolemy था सन 101 ईस्वी में इन्होंने अपने कुछ Experiments के Thourgh हमें बताया था कि, पृथ्वी हमारे Solar System का Centre है। सूर्य और बाकि सब प्लेनेट हमारी पृथ्वी का चक्कर लगाते हैं। यह सिद्धांत बहुत शताब्दियों तक चलता रहा। फिर वर्ष 1,500 में Nikolai Copernicus ने अपने Experiments से हमें बताया कि, पृथ्वी सौरमंडल का केंद्र बिंदु न होकर सूर्य हमारे Solar System का Centre पॉइंट है और सभी प्लैनेट्स Sun का चक्कर लगाते हैं।

फिर सन 1590 में कैपलर नामक वैज्ञानिक ने इस सिद्धांत का सपोर्ट किया और बताया कि, पृथ्वी के साथ-साथ बहुत से उल्कापिंड और बड़ी-बड़ी चट्टानों के टुकड़े भी सूर्य का चक्कर एक Fix Speed से लगते हैं। बाद में गेलेलियो नामक वैज्ञानिक ने भी इस सिद्धांत का समर्थन किया और कहा पृथ्वी और अन्य गृह सूर्य का चक्कर तो लगाते हैं लेकिन वे गोलाकार रूप में चक्कर नहीं लगातेते वे अंडाकार रूप में चक्कर लगते हैं।

Newton… (E mc2 full form Explained in Hindi)

सन 1687 में सर Issac Newton नाम के वैज्ञानिक ने Gravity यानी गुरुत्वाकर्षण बल की खोज की, इस खोज को Physics की Top की खोजों में सबसे ऊपर माना जाता है। Newton ने अपने Experiments से बताया कि, Gravity के कारण ही हम सब पृथ्वी से जुड़े हुए हैं और कोई चीज़ अच्छी हो या बुरी अगर आप उसे ऊपर उछालेंगे तो वह नीचे ही आएगी और यही वह Power है जिस के कारण Solar System के सभी प्लैनेट्स Sun के चक्कर लगाते हैं। 

Theory Of Relativity से पहले Classical Theory Of Relativity का सिद्धांत Newton के द्वारा ही दिया गया जिसके अनुसार किसी भी स्थाई अथवा गतिशील माध्यम में भौतिक शास्त्र के नियम नहीं बदलेंगे, मतलब स्थान और समय में कोई परिवर्तन नहीं आएगा। Example से समझते हैं कि, अगर व्यक्ति 40km Pr Hour की Speed से Train में सफ़र कर रहा है और वह चलती Train में Ball को उछालेगा और अगर कोई व्यक्ति Platform पर खड़ा होकर किसी Ball को उछालेगा तो Ball नीचे ही आएगी। मतलब Result हमेशा Same ही रहेगा।

Albert Einstein…

1905 में Albert Einstein आए और उन्होंने एक और सिद्धांत दिया जिसे Theory Of Relativity कहा जाता है। 1905 में Einstine की Theory Of Relativity के सिद्धात ने Newton के सिद्धांतों को जड़ से हिला दिया। Einstein की Theory Of Relativity को 2 भागों में बांटा गया है।

1. Special Theory Of Relativity

2. General Theory Of Relativity

Special Theory Of Relativity में 3 Concept दिए गए हैं। Relativity Of Time जिसके अनुसार समय सब जगह एक जैसा नहीं है और हम समय धीमा पड़ने पर हम समय यात्रा कर सकते हैं। Relativity Of Space जिसके अनुसार Universe में किस 2 वस्तुओं के बीच की दूरी सिकुड़ जाती है, Relativity Of Mass यानी E=Mc square जिसके अनुसार गति बढ़ने के साथ साथ वस्तु की उर्जा पैसा करने की क्षमता भी बढ़ जाती है। इसी सिद्धांत को आधार मान कर Nuclear Bomb यानी परमाणु बम का आविष्कार किया गया था।

Relativity Of Time…

इस Theory में Einstein ने हमें बताया कि, समय भी धीमा हो सकता है। यानी समय के बहने की रफ़्तार धीमी पड़ सकती है लेकिन ये बात इतनी अजीब लगती है कि, अक्सर हमारा दिमाग इन सब बातों को मानने से इनकार कर देता है पर यकीन मानिए ऐसा हो सकता है। चलिए एक Example से समझते हैं, अगर आप ऐसे किसी ऐसे Space Ship में बैठे हैं जो कि, Speed Of Light की Speed यानी 3 लाख Km/ Hour से चल रहा है तो जब आप इस गति से अंतरिक्ष में चक्कर लगा कर वापस आएँगे तो पृथ्वी पर लाखों साल गुज़र चुके होंगे। Albert Einstein ने हमें बताया कि, हम Time के इस धीमेपन को हम तभी Feel कर सकते हैं जब हम Speed Of Light या उस से मिलती जुलती गति से चलें। 

अभी तो हमारी पृथ्वी पर चलने वाली समसे तेज़ Train, Aeroplane या फिर Jet भी हमें ये Feel नहीं करवा सकते क्योंकि इन सबकी Speed, Speed Of Light से बहुत कम है। यही कारण है कि, हम Relativity Of Time को अपने आम जीवन में महसूस नहीं कर पाते लेकिन Relativity Of Time को Proof करने के लिए Nasa ने एक Important Experiment किया। Nasa ने Satellite पर एक Automatic घड़ी को सेट किया और जब Satellite Earth का चक्कर लगा कर वापस आए तो वह घड़ी पृथ्वी पर चलने वाली घड़ी की तुलना में बहुत धीमी हो गई थी।

To Know about More of Theory in Hindi- Click Here

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter@Bhannaat पर फॉलो करें।

धन्यवाद !!!

TAGS: albert einstein, albert einstein theory of relativity equation, bhannaat theory, books on special theory of relativity, derivation of e mc2, e mc2, e mc2 full form, e mc2 means, e mc2 proof, e mc2 proof in hindi, einstein e mc2, einstein equation e mc2, einstein ki theory, einstein koun the, Einstein Special Theory of Relativity, Einstein Special Theory of Relativity in Hindi, einstein theory of relativity equation, einstein’s theory of relativity equation, general and special theory of relativity special theory of relativity, general theory of relativity equation, general theory of relativity equation explained, general theory of relativity equation formula, heory of relativity equatio, heory of relativity equation, hindi me theory, postulates of special theory of relativity, relativity theory.

special theory of relativity book, special theory of relativity Einstein, special theory of relativity equation, Special Theory of Relativity in Hindi, special theory of relativity pdf, special theory of relativity postulates, theory of relativity equation, theory of relativity equation e mc2, theory of relativity equation pdf, what is e mc2, what is e mc2 used for, what is relativity, what is special theory of relativity


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *