Ramon Magsaysay Award TM Krishna in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Ramon Magsaysay Award TM Krishna in HindiRamon Magsaysay Award TM Krishna in Hindi (T.M. Krishna, Ramon Magsaysay Award Winner)

T.M. Krishna के पिता एक Businessman थे तथा उनकी माता एक Educational Institute चलाती थीं। Krishna Economics में Graduate हैं. इनका जन्म 22 January 1976 को चेन्नई में हुआ। Ramon Magsaysay Award TM Krishna in Hindi

Raymon Magsaysay Award Detail: 

Raymon Magsaysay Award Asia का सबसे बड़ा Award है, जो Music, Art Journalism Public Service Leadership और Government की सहायता और विश्व में शांति बनाने के लिए दिया जाता है। इसकी शुरुआत 1958 में Philippines से हुई थी। इसका नाम Philippines के 3rd President Raymon Magsaysay के नाम पर रखा गया और Interesting बात यह है कि, उस साल उनकी मृत्यु भी हो गई। इसे प्राप्त करने वाले व्यक्ति को 50,000 Dollars दिए जाते हैं। इसे एशिया का Nobel Prize भी कहा जाता है।

T.M. Krishna शास्त्रीय Music में महारथ रखने वाले उन भारतियों में से एक है जिन्हें साल 2016 में Raman Magsaysay Award के लिए चुना गया है। T.M. Krishna को यह Award Music को Society में दलितों तथा निचले स्तर तक पहुँचाने के लिए दिया गया है। Krishna पहले किसी भी संगीत समारोह में अपनी शिरकत देने से मना कर देते थे जहाँ Audience को Music सुनने के Ticket लेना पड़ता था लेकिन आज वे देश-विदेश में Music Concert Organize कर चुके हैं। उनका मानना है कि, Music एक ऐसी कला है जो समाज के हर स्तर तक पहुँचनी चाहिए।

इन्होंने अपने जन्म के 6 साल बाद Classical Music (शास्त्रीय संगीत) सीखना शुरू कर दिया था। 6 साल की उम्र में उनके गुरु B.C. Sitaram Sharma थे। 12 साल की Age में उन्होंने अपनी पहनी Presentation दी। उनके बाद वे Music Field में टिके रहे और संगीत में उन्होंने अपनी पहचान बनाई। T.M. Krishna ने Music को आज उस मुकाम तक, उन क्षेत्रों तक पहुँचाया है जहाँ लोग आज भी सामाजिक Problems से जूझ रहे हैं।

Recent Interview में उन्होंने माना कि, 

वह हमेशा से इतने Broad Minded नहीं थे, लेकिन जैसे-जैसे वे संगीत में गहराई तक उतरे उन्हें संगीत में कुछ कमियाँ दिखाई देने लगीं और उन्होंने अपने आप से मुश्किल सवाल पूछने शुरू कर दिए। Krishna कहते हैं कि, उनके आगे बढ़ने का मुख्य कारण उनके अपने आप से पूछे गये मुश्किल सवाल ही हैं। आज वे जिस भी मुकाम पर हैं उनकी संगीत में रूचि और कड़ी मेहनत की वजह से ही हैं।उनका लोगों को सन्देश: अगर आप सच में कुछ करना चाह्ते हैं तो उन काम में जी जान से लग जाएँ. सफलता का कोई Shortcut नहीं होता आपको मुश्किल रास्तों पर चलना ही पड़ेगा। मुश्किलों से घबराने वाले लोग डर में ही अपनी ज़िन्दगी काट देते हैं।

To Know more about Work Management in Hindi- Click Here

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter@Bhannaat पर फॉलो करें।

धन्यवाद !!!


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *