Respects and Facts for Teachers in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Respects and Facts for TeachersRespects and Facts for Teachers in Hindi…

मशहूर पाकिस्तानी लेखक मरहूम अशफ़ाक़ अहमद लिखते हैं, रोम (इटली) में मेरा चालान हुआ बिज़ी होने की वजह से फीस वक़्त पर जमा नहीं करवा सका जिसकी वजह से कोर्ट जाना पड़ा। (Respects and Facts for Teachers in Hindi)

जज के सामने पेश हुआ तो उस ने वजह पूछी तो मैंने कहा, प्रोफ़ेसर हूँ मसरूफ ऐसा रहा के वक़्त ही नहीं मिला।

इस से पहले कि मैं बात पूरी करता, जज ने कहा –

A TEACHER IS IN THE COURT…!

और सब लोग खड़े हो गए और मुझ से माफ़ी माँग कर चालान कैंसिल कर दिया ।

उस रोज़ मैं उस मुल्क की कामयाबी का राज़ जान गया!

सभी शिक्षकवृन्द को ससम्मान समर्पित

अति विशिष्ट व्यक्ति/V I P कौन है?

क्या आप को जानकारी है कि,

1) अमेरिका में सिर्फ दो तरह के लोगों को वी.आई.पी. मानते हैं :

वैज्ञानिक और शिक्षक।

.

.

2) फ्रांस के न्यायालय में सिर्फ शिक्षकों को ही कुर्सी पर बैठने का अधिकार है।

.

.

3) जापान में पुलिस सरकार से अनुमति लेने के बाद ही किसी शिक्षक को गिरफ्तार कर सकती है।

.

.

4) कोरिया में हर शिक्षक को वे सारे अधिकार प्राप्त हैं, जो भारत के मंत्री को प्राप्त हैं, सिर्फ अपना आई कार्ड दिखा कर।

.

.

5) अमेरिकन तथा यूरोपीय देशों में प्राथमिक अध्यापक को सर्वाधिक वेतन मिलता है, क्योंकि कच्ची मिट्टी को वे ही पक्का करते हैं।

एक ऐसा समाज, जहाँ शिक्षकों का अपमान होता रहेगा, वहाँ सिर्फ चोर, डाकू, लुटेरे और भ्रष्टाचारी लोग ही पनपते हैं।

To Know about Our Fundamental Rights in Hindi- Click Here

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter@Bhannaat पर फॉलो करें।

धन्यवाद !!!


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *