Mahamrityunjay mantra meaning in hindi

Meaning Of Mahamrityunjaya Mantra In Hindi महामृत्युंजय मंत्र इन हिंदी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Mahamrityunjay mantra meaning in hindiMeaning Of Mahamrityunjaya Mantra In Hindi महामृत्युंजय मंत्र इन हिंदी





संस्कृत में महामृत्युंजय उस व्यक्ति को कहते हैं जो मृत्यु को जीतने वाला हो। इसलिए भगवान शिव की स्तुति के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जप किया जाता है। इसके जप से संसार के सभी कष्ट से मुक्ति मिलती हैं। महामृत्युंजय मंत्र का उल्लेख ऋग्वेद से लेकर यजुर्वेद तक में मिलता है। वहीं शिवपुराण सहित अन्य ग्रंथो में भी इसका महत्व बताया गया है। ये मंत्र जीवन देने वाला है। इससे जीवनी शक्ति तो बढ़ती ही है साथ ही सकारात्मकता बढ़ती है। महामृत्युंजय मंत्र के प्रभाव से हर तरह का डर और टेंशन खत्म हो जाती है। शिवपुराण में उल्लेख किए गए इस मंत्र के जप से आदि शंकराचार्य को भी जीवन की प्राप्ती हुई थी।

महामृत्युंजय मंत्र का संस्कृत और हिंदी अनुवाद




ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

अर्थ
हम त्रिनेत्र को पूजते हैं,
जो सुगंधित हैं, हमारा पोषण करते हैं,
जिस तरह फल, शाखा के बंधन से मुक्त हो जाता है,
वैसे ही हम भी मृत्यु और नश्वरता से मुक्त हो जाएं।

mahamrityunjaya-mantra-benefits-in-hindi-marathi-bhannaat.महामृत्युंजय मंत्र

ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ !!

महामृत्युंजय मंत्र का सरल अनुवाद

इस मंत्र का मतलब है कि हम भगवान शिव की पूजा करते हैं, जिनके तीन नेत्र हैं, जो हर श्वास में जीवन शक्ति का संचार करते हैं और पूरे जगत का पालन-पोषण करते हैं।

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे
सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान्
मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥

हम त्रिनेत्र धारी शिव की आराधना करते हैं, जो अपनी शक्ति से संसार का पालन करतें हैं।
उनसे प्रार्थना है कि वे हमें जीवन व मृत्यु के बंधन से मुक्त करे और हमें दिखा दे कि हम कभी भी अपनी अमर प्रकृति से अलग नहीं होते हैं॥

अर्थ

The repetition of which leads an individual to overcome trials/ tribulations attain the state of equanimity

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥

हे तीन आँखो वाले महादेव, हमारे पालनहार, पालनकर्ता कृपा कर हमें इस दुनिया के मोह एवम माया के बंधनों एवम जन्म मरण के चक्र से मुक्ति दीजिए जिस प्रकार पका हुआ खरबूजा बिना किसी यत्न के डाल से अलग हो जाता है |

To Know more about Work Management in Hindi- Click Here

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter@Bhannaat पर फॉलो करें।

धन्यवाद !!!

TAGS: Meaning Of Mahamrityunjaya Mantra In Hindi, Mahamrityunjaya Mantra In Hindi Meaning, Lyrics Of Mahamrityunjaya Mantra In Hindi, Mahamrityunjaya Mantra In Hindi Lyrics, Benefits Of Mahamrityunjaya Mantra In Hindi, Shiv Mahamrityunjaya Mantra In Hindi, Mahamrityunjaya Mantra In Hindi Text, Shiva Mahamrityunjaya Mantra In Hindi, Mahamrityunjaya Mantra In Hindi Written, Mahamrityunjaya Mantra In Hindi Song, महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ, महामृत्युंजय मंत्र इन हिंदी, महामृत्युंजय मंत्र Lyrics, महामृत्युंजय मंत्र, संपूर्ण महामृत्युंजय मंत्र डाउनलोड, महामृत्युंजय मंत्र सुनाइए, महामृत्युंजय मंत्र, महामृत्युंजय मंत्र 108 बार, महामृत्युंजय मंत्र सुरेश वाडकर, महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ दिखाइए, महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ





Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *