How to cross your limit in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

How to cross your limit in HindiHow to cross your limit in Hindi (अपनी औकात को कैसे पार करें?)

यूँ ही free बैठा था सोचा चलो एक post लिख लेता हूँ। जब भी इंसान कुछ सोचता है तो वह या तो अपने past के बारे में सोचता है या फिर अपने future के बारे में, क्योंकि दिमाग कभी सोचना बंद नहीं करता। इसलिए हमारे दिमाग में बहुत सारे thoughts आते-जाते रहते हैं। Successful लोग ऐसा क्या करते हैं कि, वे अपने fields में champion होते हैं क्योंकि हर इंसान में कुछ न कुछ talent जरूर होता है लेकिन केवल कुछ ही लोग अपनी limits को cross कर पाते हैं और 90% लोग नहीं। (How to cross your limit in Hindi)

मैंने कई बार लोगों से success की definition पूछी है लेकिन सभी का जवाब different होता है और होना भी चाहिए क्योंकि success को कुछ शब्दों में नहीं बाँधा जा सकता। कुछ लोगों के लिए पैसा ही success है, कुछ के लिए कुछ पा लेना, कुछ के लिए अपनी family की देखभाल, कुछ के लिए कोई government Exam crack कर लेना या कुछ लोग अच्छी सी नौकरी पा लेने को ही सफलता समझ लेते हैं।

मेरे हिसाब से सफल होने के लिए केवल एक ही definition होनी चाहिए वो है अपनी औकात पार कर लेना। मुझे ये definition बिलकुल सार्थक लगती है क्योंकि आज जो भी इंसान किसी भी field में सफल है उसने कभी न कभी अपनी औकात जरूर पार की है।

आप को लग रहा होगा कि, मैं औकात शब्द की जगह limit क्यों use नहीं कर रहा क्योंकि limit में वो औकात वाली feeling नहीं आती इसलिए हम Indians काफ़ी unique हैं।

औकात कैसे पार करें:- (How to cross your limit in Hindi)

आपके दिमाग में कई बार thoughts आते होंगे और आपने बहुत से लोगों से सुना भी होगा कि, वो काम हो तो सकता है लेकिन मैं नहीं कर पाऊँगा, तू उस लड़की को नहीं पटा पाएगा, तू upsc crack नहीं कर पाएगा, तू body नहीं बना पाएगा, तू weight lose नहीं कर पाएगा, तू 800m running 2:45 में नहीं निकाल पाएगा, तू अमीर नहीं बन पाएगा या फिर आप अपनी खुद की लिमिट set कर लेते हो जैसे अगर वो govt. exam पास नहीं कर पाया तो मैं भी नहीं कर पाऊँगा क्योंकि वो मेरी limit से बाहर है। हमें इंडिया में बार-बार “औकात में रह” कह कर अपनी औकात याद दिलाई जाती है।

अपनी औकात को पार करने का एक ही तरीका है कि, आप अपने goals की list बनाएँ और उसे achieve करने के reason ढूँढे और अपने आप से पूछें कि, मैं अगर यह नहीं कर पाया तो क्या होगा।क्योंकि ऐसा नहीं है कि, जो आप सोच रहें हैं वह किसी ने achieve नहीं किया और अगर किसी ने achieve किया है तो आप क्यों नही कर सकते?

Set your short term goals:

Goals 2 तरह के होते हैं कुछ short term और कुछ long term. कमरे की सफाई, घर को paint करवाना, बाजार से सब्जी ले कर आना, चाय या coffee बनाना आदि सभी short term goals है, यदि मैं आपसे कहूँ कि, अपनी कमरे को साफ करना है तो आप मन न होने पर भी एक बार उसे साफ कर देंगे, क्योंकि आप सोचेंगे कि, इस काम को खतम करो जैसे-तैसे, इसी प्रकार अधिकतर लोग सोचते हैं।इसी तरह से आप अपने आप से धक्का मार कर अपने काम करवाते हैं लेकिन इस तरह से आप सफल नहीं बन सकते क्योंकि सफल बनाने के लिए वह करना पड़ता है जो आप ने आज तक नहीं किया।

Set your long term goals:

IAS बनना, upsc crack करना, government job हासिल करना, mount Everest पर चढ़ना, अपने लिए एक अच्छा घर बनाना, world tour पर जाना, Olympic में gold medal प्राप्त करना आदि long terms dreams में आते हैं जिनको आप आपना सपना भी कह सकते हैं, लेकिन long term goals को short term goal की तरह पूरा नहीं किया जा सकता।

इसके लिए पहले आपको अपना मन बनाना पड़ेगा और उस पर काम start करना होगा- जैसे आप weight lose krna चाहते हैं तो आपको पहले walking से start करना चाहिए।जब आप walking में comfortable हो जाओ तो jogging start करना चाहिए और जब jogging में comfortable हो जाएँ तो running start अपनी चाहिए।

Set your long term goals:

साथ ही साथ आपको अपनी diet पर भी ध्यान देना चाहिए। अब ऐसा बहुत से लोग करते तो हैं लेकिन चार-पाँच दिन करके बोर हो जाते हैं और फिर उस काम को करना छोड़ देते हैं। यहीं पर 90 प्रतिशत लोग हार जाते हैं और केवल 10% लोग ही आगे बढ़ते हैं। किसी भी काम को एक बार करना आसान है लेकिन आसान काम को बार-बार करना ही मुश्किल है। इसलिए आप को अपनी आदत बदलनी चाहिए और आदत बदलती है discipline से और discipline बनता है practice से। जब आप बार-बार किसी काम की प्रैक्टिस करते हो तो आपका mind और body उस काम को easily करने लगते हैं, इसी को आदत कहते हैं। nothing big has ever been achieved without discipline.

ये formula केवल weight loss में ही नहीं बल्कि किसी भी goal को प्राप्त करने में सहायता करेगा और अगर आप 21 दिनों तक किसी भी काम को करने में जुटे रहते हैं तो आप जरूर अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे।

आप आज भले ही 5 km तक नहीं भाग पाते हों लेकिन यकीन मानिए की 2 साल की training के बाद आप Everest की चोटी पर भी चढ़ जाएँगे।

Stop wasting time:

जब आप कोई लक्ष्य प्राप्त करना चाहते है तो आप को अपना समय बिल्कुल भी नष्ट नही करना चाहिए, बहुत से लोग same गलती बार बार करते है अगर किसी दिन उनके साथ कोई गलत घटना घट जाती है तो वे अपना पूरा दिन ही बर्बाद कर देते ही उसी के बारे में सोच सोच कर, वे पढ़ना लिखना छोड़ देते है, वे exercise करना छोड़ देते हैं, उनका मन किसी भी काम मे नही लगता और वे अपने मन मे धारण बना लेते हैं कि पिछले 2 दिनों से नहीं पढ़ा कुछ तो अब आगे पढ़ने का क्या फायदा और ऐसे ही हम लक्ष्य से भटक जाते हैं, ये बिल्कुल ऐसा ही है जैसे आप कहीं जा रहे है और अचानक आप कीचड़ में गिर गए।

और फिर आपने सोचा कि अब उठने से क्या फायदा जब गिर ही गया हूँ तो ढंग से लोट-पोट हो ही लेता हूँ, लेकिन आप ऐसा करते तो नही क्योंकि ऐसा करने से आप अपने आप को और problem में डाल रहे हैं। इस से निकलने के लिए अपने आप को prepare करें, work management सीखिए, exercise कीजिये, रोज़ practice कीजिये, positive thinking रखिये आपका schedule धीरे धीरे सही हो जाएगा और आप ओर भी अधिक productive हो जाएंगे।

Reward yourself: (How to cross your limit in Hindi)

जब मैं पढ़ाई करता हूँ तो मैं लगातार कुछ समय पढ़ने के बाद अपने आप को कुछ छोटा सा reward देता हूँ- जैसे maths के 50 सवाल practice करने के बाद मैं coffee पियूँगा या mind set करता हूँ कि, 2 घंटे पढ़ने के बाद एक comedy show देखूँगा। छोटे-छोटे reward दे कर आप अपना बेस्ट version बन सकते हो।

हमेशा लक्ष्य बड़ा रखें वह लक्ष्य किसी काम का नहीं क्यों आपको बिस्तर से उसने पर मजबूर नहीं कर दे। जब mind और body किसी एक काम पर focus हो कर लग जाते है तो उस काम को होना ही पड़ता है, इसी को हम law of attraction का नाम देते हैं। मेरी नज़र में जो काम आप के बस का नहीं है उसी काम को कर लेना ही औकात पार कर लेना है और सही मायने में अपनी औकात को पार कर लेना ही सफलता है।

To Know more about Work Management in Hindi- Click Here

Article अच्छा लगने पर Share करें और अपनी प्रतिक्रिया Comment के रूप में अवश्य दें, जिससे हम और भी अच्छे लेख आप तक ला सकें। यदि आपके पास कोई लेख, कहानी, किस्सा हो तो आप हमें भेज सकते हैं, पसंद आने पर लेख आपके नाम के साथ Bhannaat.com पर पोस्ट किया जाएगा, अपने सुझाव आप Wordparking@Gmail.Com पर भेजें, साथ ही Twitter@Bhannaat पर फॉलो करें।

धन्यवाद !!!


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *